प्रिंटर क्या है ( What is Printer ) प्रिंटर कितने प्रकार के होते हैं ( Tpye of Printer ) हिंदी में - Pass Box

यहां पर आपको मोबाइल इंटरनेट कंप्यूटर टिप्स और ट्रिक्स से संबंधित जानकारी प्राप्त होगी और साथ ही सरकारी योजनाओं की जानकारी प्राप्त होगी.

Whatsapp Group Join

Saturday, 17 November 2018

प्रिंटर क्या है ( What is Printer ) प्रिंटर कितने प्रकार के होते हैं ( Tpye of Printer ) हिंदी में

प्रिंटर क्या है ( What is Printer ) प्रिंटर कितने प्रकार के होते हैं ( Tpye of Printer ) हिंदी में


आज हम जानेंगे कि प्रिंटर क्या है ( What is Printer ), प्रिंटर के प्रकार ( Type of Printer ) ,  प्रिंटर के उपयोग ( Use of Printer ) इन सभी प्रश्नों के जवाब और विस्तृत रूप से जानते हैं जैसा कि हम जानते हैं कि प्रिंटर एक आउटपुट डिवाइस है जो दस्तावेजों और चित्रों को प्रिंट करता है तथा सॉफ्ट कॉपी को हार्ड कॉपी में कन्वर्ट करता है यह एक  आउटपुट डिवाइस है यह डाटा प्रिंट करता है जो कंप्यूटर द्वारा संसाधित होता है, प्रिंटर को मोटे तौर पर दो समूह में वर्गीकृत किया जाता है.
प्रिंटर क्या है ( What is Printer ) प्रिंटर कितने प्रकार के होते हैं ( Tpye of Printer ) हिंदी में


1. इंपैक्ट प्रिंटर ( Impacts Printer ) 

प्रिंटिंग कि यह विधि टाइपराइटर की विधि के समान होती हैं जिसमें धातु का एक हैमर ( Hammer ) या प्रिंट हैंड ( print hand ) कागज व रिबन ( Ribbon ) पर टकराता है, इंपैक्ट ( Impact ) प्रिंटिंग में अक्सर या कैरक्टर्स ठोस मुद्रा अक्षरों ( Solid Fonts ) या डॉट मैट्रिक्स ( Dot Matrix ) विधि से कागज पर प्रिंट होते हैं ।

• ठोस मुद्रा अक्षर ( Solid Fonts ) विधि :- इस विधि में टाइपराइटर की तरह अक्षरों के लिए धातु के ठोस टाइपसेट होते हैं, जिन पर अक्सर उभरे रहते हैं ।


• डॉट मैट्रिक्स ( Dot Matrix ) विधि :- डॉट मैट्रिक्स ( Dot Matrix ) विधि मैं पिनों ( Pins )  की ऊर्ध्वाधर पंक्ति ( Vertical Row ) का एक प्रिंट हैंड होता है, इंपैक्ट डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर प्राय: ठोस मुद्रा अक्षर प्रिंटरों ( Solid Fonts ) की अपेक्षाकर्त्त उच्च गति के होते हैं , 100 से 200 कैरेक्टर प्रति सेकंड की गति सामान्य रूप से होती हैं ।



2. नॉन-इंपैक्ट प्रिंटर ( Non Impact Printer )

इस प्रकार की प्रिंटिंग में प्रिंट हैंड और कागज के मध्य संपर्क नहीं होता है । नॉन इंपैक्ट प्रिंटिंग की अनेक विधियां जैसे :- इलेक्ट्रो थर्मल ( Electro-thermal ) ,  इंकजेट ( Ink-jet ) लेजर ( Laser ) और थर्मल ट्रांसफर ( Thermal -Transfer ) आदि है

• इलेक्ट्रो थर्मल प्रिन्टग ( Electro-thermal Printing ) :- इसमें एक विशेष कागज पर कैरेक्टर को गरम रॉड ( Heated Rod ) वाले प्रिंट हैंड ( Print Head ) से चलाया जाता है यह प्रिंटर हार्ड ( Hard ) होते हैं,  इनके लिए विशेष कागज की आवश्यकता होती है.






• थर्मल ट्रांसफर प्रिंटर ( Thermal l-Transfer Printer ) :- यह एक नई तकनीक का प्रिंटर है जिसमें कागज पर वैक्स आधारित रिबन ( Wax based Ribbon ) से स्याही का तापीय स्थानांतरण होता है.


प्रिंटर के मुख्य प्रकार ( Major Type of Printer )

प्रिंटर को दो प्रमुख भागों इंपैक्ट प्रिंटर और नॉन इंपैक्ट प्रिंटर में विभाजित किया जा सकता है, इंपैक्ट प्रिंटर टेक्स्ट और इमेज तब बनाते हैं जब छोटे तारों वाले पिन जो प्रिंटर से लगे होते हैं रिबन के साथ भौतिक रूप से संपर्क बनाते हुए कागज पर दबाव बनाते हैं, नॉन इंपैक्ट प्रिंटर बिना कागज पर दबाव बनाए ग्राफिक्स और टेक्स्ट को कागज पर दर्शाते हैं ।


प्रिंटर को उनकी तकनीक और प्रिंट करने के तरीके के आधार पर वर्गीकृत किया जा सकता है इंकजेट प्रिंटर, लेजर प्रिंटर, डॉट प्रिंटर और थर्मल प्रिंटर को सबसे ज्यादा लोकप्रिय प्रिंटर हैं, इसमें से सिर्फ डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर ही इंपैक्ट  प्रिंटर हैं, बाकी सब नॉन इंपैक्ट प्रिंटर है।


कुछ प्रिंटरों जैसे फोटो प्रिंटर, प्रोटेबल प्रिंटर, मल्टीफंक्शन प्रिंटर, और ऑल-इन-वन के नाम उनके द्वारा किए जाने वाले विशेष कार्य के आधार पर दिए जाते हैं, फोटो प्रिंटर और पोर्टेबल प्रिंटर साधारण: इंकजेट प्रिंटर तरीके का इस्तेमाल करते हैं, जबकि मल्टीफंक्शन प्रिंटर इंकजेट प्रिंटर,  लेजर प्रिंटर तरीके का इस्तेमाल कर सकते हैं।


इंकजेट प्रिंटर और लेजर प्रिंटर घर और व्यापार में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाते हैं। डॉट मैट्रिक्स प्रिंटरो का इस्तेमाल 60 और 70 के दशक में ज्यादा किया जाता था। मगर उसकी जगह घरों में इंकजेट प्रिंटर का इस्तेमाल किया जाने लगा है।


इंकजेट प्रिंटर ( Ink-jet Printer )

इंकजेट प्रिंटर एक नॉन इंपैक्ट प्रिंटर है, जिसमें नोजल ( Nozzle ) से कागज पर स्याही की बूंदों की बौछार कर टेक्स्ट तथा आकृति छापी जाती है, यह प्रिंटर घरेलू उपयोग के लिए सबसे लोकप्रिय प्रिंटर होते हैं।
इंकजेट प्रिंटर ( Ink-jet Printer )


इन दिनों अधिकतर इंकजेट प्रिंटर में थर्मल इंकजेट या पाइजोइलेक्ट्रिक ( Pyroelectric )  इंकजेट टेक्नोलॉजी का प्रयोग होता है, थर्मल इंकजेट प्रिंटर गर्म करने वाले तत्व का प्रयोग करता है। यह गर्म करने वाला तत्व ( Substance ) द्रव्य स्याही को गर्म कर वाष्पीय बुलबुला ( vapour  bubble ) बनाता है, जो नोजल के माध्यम से कागज पर स्याही के बुलबुलों को फेंकता है। अधिकतर इंकजेट निर्माता इस टेक्नोलॉजी का प्रयोग इंकजेट प्रिंटर में कहते हैं । 

पाईजोइलेक्ट्रिक इंकजेट प्रिंटर मैं कई प्रकार की स्याही जैसे साल्वेंट स्याही, डाई सबलिमैशन स्याही इत्यादि का प्रयोग होता है। तथा विभिन्न आलेपित ( uncoted ) पदार्थों पर टेक्स्ट और ग्राफिक्स छाप सकता है।

इंकजेट हेड डिजाइन दो मुख्य समूह जैसे फिक्स्ड हेड तथा डिस्पोजेबल में बंटा होता है। फिक्स्ड हेड प्रिंटर में ही बना होता है तथा प्रिंटर जब तक चलता है यह चलता है। यह सस्ते डिस्पोजेबल हेड की अपेक्षाकर्त्त अधिक स्पष्ट आउटपुट पैदा करता है । फिक्स्ड हेड प्रिंटरो के स्याही कार्टेज सस्ते होते हैं, क्योंकि इसका प्रिंट हेड बदला नहीं होता है । किंतु हेड खराब हो जाने की स्थिति में पूरा प्रिंटर ही बदलना पड़ता है।

इंकजेट प्रिंटर सामान्यतः घरों या छोटे व्यापारों में प्रयोग होता है कुछ निर्माताओं ने उद्योगिकीय उद्देश्यों के लिए एक अच्छा परिणाम देने वाले इंकजेट प्रिंटर बनाए हैं इन इंकजेट प्रिंटर का प्रयोग विज्ञापन ग्राफिक्स व तकनीकी रेखा चित्र छापने में होता है ।






इंकजेट प्रिंटर की विशेषताएं ( Advantege of an ink-jet Printer ) 

  • कम लागत।
  • उच्च स्तर का परिणाम। बिल्कुल स्पष्ट विवरणों के साथ छपाई करने में सक्षम।
  • चित्रों ( photography ) की छपाई के लिए उत्तम ।
  • उपयोग में आसान ।
  • डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर के अपेक्षाकृत अधिक शांत।
  • वार्म-अप टाइम ( गर्म होने में लगने वाला समय ) की आवश्यकता नहीं।

इंकजेट प्रिंटर की कमियां ( Disadvantege of an ink-jet Printer ) 

  • प्रिंट हेड कम टिकाऊ । प्रिंट हेड क्लागिग ( Clogging ) तथा इसके नष्ट होने की संभावना अधिक होती है।
  • स्याही कॉटेज को बदलना मंगा होता है।
  • बड़ी संख्या में प्रिंटिंग के लिए अच्छा नहीं है।
  • लेजर प्रिंटर की तरह इसकी प्रिंटिंग गति तेज नहीं।
  • स्याही का बहाव तथा किनारे पर स्याही लग जाने के कारण कागज खराब हो जाते है।
कहीं उपभोक्ता इंकजेट प्रिंटर इन दिनों 1500 रुपए तक के कम दामों में बिक रहे हैं। हालांकि इंकजेट प्रिंटर की कीमत घटने के बावजूद उसके कॉटेज के दाम बढ़ ही रहे हैं। किंतु इंकजेट प्रिंटर के उपभोक्ताओं के पास कॉटेज मैं दोबारा स्याही भरने का विकल्प मौजूद होता है । जो प्रिंटिंग लागत को 5 से 7 गुना कम कर देता।

लेजर प्रिंटर ( Laser Printer )

लेजर प्रिंटर नॉन इंपैक्ट प्रिंटर है।लेजर प्रिंटर का उपयोग कंप्यूटर सिस्टम में 1970 के दशक से हो रहा है। पहले यह मेनफ्रेम कंप्यूटर में प्रयोग किए जाते थे। 1980 के दशक में लेजर प्रिंटर का मूल्य लगभग $3000 था ओरिया माइक्रो कंप्यूटर के लिए उपलब्ध था। यह प्रिंटर आजकल अधिक लोकप्रिय हैं क्योंकि यह अपेक्षाकर्त्त अधिक तेज और उच्च क्वालिटी में टेक्स्ट और ग्राफिक से छापने में सक्षम है।
लेजर प्रिंटर ( Laser Printer )

लेजर प्रिंटर पृष्ठ पर आकृति ( Images ) को जिरोग्राफी ( Xerography ) तकनीक से छापता है। जिरोग्राफी ( Xerography ) तकनीक का विकास जिरॉक्स ( Xerox ) मशीन फोटोकॉपिर मशीन के लिए हुआ था।

  • लेजर प्रिंटर महंगे होते हैं, लेकिन इनकी छापने की गति उच्च होती है। प्लास्टिक की सीट या अन्य किसी सीट पर भी यह प्रिंटर आउटपुट को छाप सकते हैं। इनका उपयोग छपाई की आपसे मशीन की मास्टर कॉपी छापने में होता है जिनसे आउटपुट की प्रतिलिपि या अधिक संख्या में छापी जाती है ।


लेज़र प्रिंटर की विशेषताएं ( Advantage of a laser printer ) 

  • उच्च रिजोलुशन ( सामान्य: 600 से 1200 डॉट्स प्रति इंच तक ) 
  • उच्च प्रिंटिंग गति
  • दाग धब्बे रहित छपाई
  • प्रति पृष्ठ छपाई इंकजेट प्रिंटर के अपेक्षाकृत कम कीमत
  • प्रिंट आउट जल सवेदनी ( Water Sensitive ) नही
  • बड़ी मात्रा में छपाई के लिए उपयुक्त


लेसर प्रिंटर की कमियां ( Disadvantege of an laser Printer ) 

  • इंकजेट प्रिंटर से अधिक महंगा होता है।
  • आमतौर पर विभिन्न प्रकार के रंगो मैं तथा उच्च क्वालिटी आकृतियों जैसे फोटो छपने में कम सक्षम होता है।
  • टोनर तथा ड्रम को बदलना महंगा होता है।
  • इंकजेट प्रिंटर से बड़ा तथा भारी होता है।
  • वार्म अप टाइम आवश्यक।

थर्मल प्रिंटर ( Thermal Printer )

थर्मल प्रिंटर से दो तरह की तकनीक डायरेक्ट थर्मल और थर्मल ट्रांसफर प्रिंटिंग का इस्तेमाल करते हैं। पारंपरिक थर्मल प्रिंटर डायरेक्ट थर्मल विधि का इस्तेमाल करते हैं। इस विधि में बिजली के द्वारा गर्म किए गए पिन को ताप संवेदी ( Heat Sensitive ) कागज या थर्मल कागज पर लगाया जाता है। गर्म होने पर थर्मल कागज की कोटिंग काली हो जाती हैं जिससे कैरेक्टर  वह आकृति बनाता है। डायरेक्ट थर्मल प्रिंटर में किसी इंक, टोनर रिबिन का इस्तेमाल नहीं होता है। यह प्रिंटर टिकाऊ होते हैं, इन्हें इस्तेमाल करना आसान होता है और प्रिंटिंग करने का खर्च भी दूसरे प्रिंटर के मुकाबले कम होता है, किंतु थर्मल पेपर गर्मी रोशनी तथा पानी से ज्यादा प्रभावित होता है, इसलिए टेक्स्ट और इमेज समय के साथ मिट जाता है या धुंधला हो जाता है।
थर्मल प्रिंटर ( Thermal Printer )
थर्मल ट्रांसफर प्रिंटिंग में थर्मल प्रिंट हेड एक ताप संवेदी ( Heat Sensitive ) रिबन कोट ताप देकर गर्म करता जिससे कागज पर वह स्याही पिघलाता हैं तथा टेक्स्ट एवं आकृति तैयार होती हैं । इसके प्रिंट आउट अत्यंत टिकाऊ होते हैं तथा लंबे समय तक के लिए इन्हें संग्रहित ( Store ) करके रखा जा सकता है।

इन प्रिंटर का उपयोग केस रजिस्टर्स , ATM तथा पॉइन्ट ऑफ सेल्स टर्मिनल मै थर्मल प्रिंटर का अक्सर इस्तेमाल किया जाता है।





फोटो प्रिंटर ( Photo Printer ) 

फोटो प्रिंटर रंगीन प्रिंटर होते हैं जो फोटो लैब की क्वालिटी फोटो पेपर पर छपते हैं। इसका इस्तेमाल डॉक्यूमेंट की प्रिंटिंग के लिए भी किया जा सकता है। इन प्रिंटर्स के पास काफी बड़ी संख्या में नोजल होते हैं जो काफी अच्छी क्वालिटी की इमेज के लिए बहुत अच्छी स्याही की बूंद छापता हैं।
फोटो प्रिंटर ( Photo Printer )

कुछ फोटो प्रिंटर मैं मीडिया कार्ड रीडर भी होते हैं, यह 4"*6"  फोटो को सीधे डिजिटल कैमरे के मीडिया कार्ड से बिना किसी कंप्यूटर के प्रिंट कर सकते हैं।

ज्यादातर इंकजेट प्रिंटर और उच्च क्षमता वाले लेजर प्रिंटर उच्च क्वालिटी की तस्वीरें प्रिंट करने  में सक्षम होते हैं। कभी-कभी इन प्रिंटरो को फोटो प्रिंटर के रूप मैं बाजार में लाया जाता है। प्रिंटर में तीन प्रकार की स्याही प्रयोग की जाती है। स्यान (Cyan) , हल्का मैजेंटा ( Magenta ) , हल्का काले रंगों में रंगीन कार्टेज होता है। यह अतिरिक्त रंगीन कार्टेज की सहायता से अधिक रोचक तथा वास्तविक दिखने जैसा फोटो छपते हैं। इसका परिणाम साधारण इंकजेट लेजर प्रिंटर से बेहतर होता है।


मल्टीफंक्शनल /  ऑल इन वन प्रिंटर ( Multi fuctionlful / all in one printer )

मल्टीफंक्शनल प्रिंटर को ऑल इन वन प्रिंटर या मल्टीफंक्शनल डिवाइस ( Multi Function Device)  भी कहा जाता है। यह ऐसी मशीन होती है जिसके द्वारा कई महीनों तथा  प्रिंटर, स्केनर, कॉपियर तथा फेक्स के कार्य किए जा सकते हैं।


मल्टीफंक्शनल प्रिंटर की विशेषताएं ( Advantage of a multifunctional printer )


  • कम लागत:- मल्टीफंक्शनल प्रिंटर को खरीदना सभी उत्पादों जैसे फैक्स मशीन स्कैनर प्रिंटर कॉपियर को अलग अलग खरीदने से ज्यादा सस्ता पड़ता है।
  • यह कम जगह लेता है।

मल्टीफंक्शनल प्रिंटर की कमियां ( Disadvantage of a multifunctional printer ) 



  • अगर कोई एक कंपोनेंट टूट जाता है तो पूरी मशीन बदलनी पड़ती है।
  • किसी कंपोनेंट की खराबी से पूरी मशीन प्रभावित होती है।
  • प्रिंट की क्वालिटी और गति कुछ अकेले प्रिंटर से कम होती है।

पोर्टेबल प्रिंटर ( Portable Printer ) 
पोर्टेबल प्रिंटर ( Portable Printer )

पोर्टेबल प्रिंटर छोटे, कम वजन वाले इंकजेट या थर्मल प्रिंटर होते हैं।जो लैपटॉप कंप्यूटर द्वारा यात्रा के दौरान प्रिंट निकालने की अनुमति देते हैं। ये एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने में आसान  इस्तेमाल करने में सहज होते हैं। मगर कॉम्पैक्ट डिजाइन की वजह से सामान्य इंकजेट प्रिंटर्स के मुकाबले महंगे होते हैं, इनकी प्रिंटिंग की गति भी सामान्य प्रिंटर से कम होती है। कुछ प्रिंटर डिजिटल कैमरे से तत्काल फोटो निकालने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं इसलिए इन्हें पोर्टेबल फोटो प्रिंटर कहा जाता है।


डॉट मेट्रिक्स प्रिंटर ( Dot - Matrix printer ) 

डॉट मैट्रिक्स एक इंपैक्ट प्रिंटर है इस प्रिंटर के प्रिंट हैंड ( Print Head ) मैं अनेकों पिनो ( Pins ) का 1 मैट्रिक्स होता है, और प्रत्येक पिन के रिबन पर स्पर्श के कागज पर एक डॉट (Dot ) छपता हैं। अनेक डॉट मिलकर एक  कैरेक्टर बनाते हैं। प्रिंट हेड में 7, 9, 14, 18 या 24 पिनों को  ऊर्ध्वाधर समूह होता है। एक बार में एक कॉलम की पिने प्रिंट हेड से बाहर निकल कर डॉट्स छापती है, जिससे एक कैरेक्टर अनेक चरणों में बनता  है ओर लाइन की दिशा में प्रिंट हेड आगे बढ़ता जाता है। प्रिंट हेड की पिने कंप्यूटर के सीपीयू द्वारा भेजे गए संकेतों क्या आधार पर उपयुक्त स्थान पर डॉट बनाती चली जाती हैं।
डॉट मेट्रिक्स प्रिंटर ( Dot - Matrix printer )

यह प्रिंटर आउटपुट को निम्नलिखित दो प्रकार की गुणवत्ताओं मैं छाप सकता है।

  • ड्राफ्ट क्वालिटी प्रिंटिंग ( Draft Quality Printing ) - इसमें निम्न कोटि की सामान्य छपाई होती है।
  • नियर-लैटर क्वालिटी प्रिंटिंग ( Near-Letter Quality Printing ) -इस प्रिंटिंग में प्रत्यक कैरेक्टर दो बार में ओवर स्ट्राइक में छपता है इस अवस्था में छपाई की गति धीमी होती है।

डॉट मेट्रिक्स प्रिंटर की विशेषताएं ( Advantage of a Dot - Matrix Printer )

  • बहु भाग फार्म तथा कार्बन कॉपियों पर छापने के लिए उपयुक्त।
  • प्रति पृष्ठ प्रिंटिंग लागत बिल्कुल कम।
  • लगातार फॉर्म वाले कागज पर छपाई तथा डाटा लॉगिन के लिए उपयोगी।
  • विश्वसनीय तथा टिकाऊ।



डॉट मेट्रिक्स प्रिंटर की कमियां ( Disadvantage of a Dot - Matrix Printer )


  • शोर युक्त ( यह प्रिंटिंग के दौरान बहुत आवाज करता है )
  • सीमित प्रिंटिंग क्वालिटी।
  • कम प्रिंटिंग गति।
  • सीमित रंगों में ही प्रिंटिंग।

डेजी व्हील प्रिंटर ( Daisy wheel printer )

डेजी व्हील सॉलि़ड फॉन्ट ( Solid Font ) वाला इंपैक्ट प्रिंटर है इसका नाम डेजी व्हील ( Daisy wheel ) इसलिए दिया गया है क्योंकि इसके प्रिंट हेड की आकृति एक पुष्प ( Flower ) डेज़ी ( Daisy ) से मिलती है। 
डेजी व्हील प्रिंटर ( Daisy wheel printer )





डेजी व्हील प्रिंटर ( Daisy wheel printer ) धीमी गति का प्रिंटर है लेकिन इसके आउटपुट की स्पष्टता उच्च होती है इसलिए इसका उपयोग पत्र ( Letter ) आदि छापने में होता है।  और यह लेटर क्वालिटी प्रिंटर ( Letter Quality Printer ) कहलाता है। इसके प्रिंट हेड मैं एक चक्र या व्हील होता है।  जिसके प्रत्येक तान ( Spoke ) मैं एक कैरेक्टर का सॉलिड फोंट उभरा रहता है । व्हील कागज की क्षितिज दिशा में गति करता है और छापने योग्य कैरेक्टर का स्पोक ( Spoke ) , Wheel के घूमने से प्रिंट पोजीशन ( Position ) पर आता हैं। एक छोटा हैमर ( Hammer ) स्पोक , रिबन ( Ribbon ) ओर कागज पर टकराता हैं जिससे अक्षर कागज पर छप जाता हैं । इस प्रकार के प्रिंटर अब बहुत कम उपयोग मैं है।

लाइन प्रिंटर ( Line Printer ) 

लाइन प्रिंटर ( Line Printer )
बड़े कंप्यूटरों के लिए उच्च गति के प्रिंटर्स की आवश्यकता होती हैं उच्च गति के प्रिंटर एक बार में एक कैरेक्टर छापने की बजाय एक लाइन या पृष्ठ को एक बार में छाप सकते हैं उच्च गति के प्रिंटर्स की दो श्रेणियां होती है लाइन प्रिंटर और पेज प्रिंटर।

ड्रम प्रिंटर ( Drum Printer ) 


ड्रम प्रिंटर में तेज घूमने वाला एक ड्रम होता है, जिसकी सतह पर अक्सर ( कैरेक्टर्स ) उभरे रहते हैं एक बैंड पर सभी अक्षरों का एक समूह होता है, ऐसे अनेक बैंड संपूर्ण धर्म पर होते हैं जिससे कागज पर लाइन की प्रत्येक स्थिति में कैरेक्टर्स छापे जा सकते हैं, ड्रम तेजी से घूमता है और एक Rotation में एक लाइन छापता है।

चेन प्रिंटर ( Chain Printer ) 

चेन प्रिंटर ( Chain Printer )

चेन प्रिंटर में तेज घूमने वाली एक चेन ( Chain ) होती है, जिसे प्रिंट चेन ( Print Chain ) कहते हैं। चेन में कैरेक्टर होते हैं, प्रत्येक कड़ी ( Link )  में एक कैरेक्टर का फोंट ( Font )  होता है, प्रत्येक प्रिंट पोजीशन पर हैमर लगे रहते हैं। प्रिंटर कंप्यूटर से लाइन के सभी छपने वाले कैरेक्टर प्राप्त कर लेता है हैमर कागज और उचित कैरेक्टर से टकराता है और एक बार में 1 लाइन छप जाती है।


बैंड प्रिंटर ( Band Printer )

बैंड प्रिंटर ( Band Printer )
बैंड प्रिंटर चेन प्रिंटर ( Chain Printer ) के समान कार्य करता है इसमें चेन ( Chain ) के स्थान पर स्टील का एक प्रिंट बैंड होता है, हैमर केबल से छपने वाला उचित करैक्टर कागज पर छप जाता है।




आशा करते हैं कि आपको प्रिंटर से जुड़ी जानकारियां अच्छी लगी होगी अगर आपको यह आर्टिकल प्रिंटर क्या है ( What is Printer ) प्रिंटर कितने प्रकार के होते हैं ( Tpye of Printer ) हिंदी में अच्छा लगे तो आप अपने फ्रेंड्स के साथ भी शेयर कीजिए ताकि उन्हें भी प्रिंटर्स के बारे में जानकारी हो सके






No comments:

Post a Comment

Whatsapp Group latest Walk in Interview Information